26 लाख रुपए लूट की वारदात का पर्दाफाश. सरगना समेत दो आरोपियों को गुजरात के अहमदाबाद से गिरफ्तार किया.

admin  2 weeks, 2 days ago Top Stories

-गिरोह का सरगना कर्ज में डूबा था, कर्ज उतारने के लिए छोटे भाई व तीन अन्य साथी आरोपियों के साथ मिलकर लूट की उक्त वारदात को अंजाम दिया था

BOL PANIPAT : 7 जुलाई 2024, पुलिस अधीक्षक अजीत सिंह शेखावत के मार्गदर्शन में कार्रवाई करते हुए सीआईए वन पुलिस टीम ने नांगलखेड़ी के पास कलेक्शन ऐजेंट से चाकू की नोक पर हुई 26 लाख रूपए लूट की वारदात को महज 10 दिन के दौरान ही सफलतापूर्वक सुलझा लिया है। पुलिस ने गिरोह के सरगना समेत दो आरोपियों को शुक्रवार देर शाम गुजरात के अहमदाबाद से गिरफ्तार किया। आरोपियों की पहचान वनराज भाई उर्फ विपुल निवासी वेड पाटन व दलीप भाई निवासी पदराडा पाटन गुजरात के रूप में हुई।

पुलिस अधीक्षक अजीत सिंह शेखावत ने उक्त प्रकरण की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि बीती 25 जून को नांगलखेड़ी के पास ई रिक्शा सवार कलेक्शन एजेंट से एक कार सवार 4/5 अज्ञात बदमाशों ने मारपीट कर चाकू के बल पर 26 लाख रुपए कैश लूटने की वारदात को अंजाम दिया था। सूचना मिलने पर थाना औद्योगिक सेक्टर 29 पुलिस व सीआईए की तीनों टीमें मौके पर पहुंचकर जांच में जुट गई थी। साथ ही कलेक्शन ऐजेंट जयेश निवासी बदरडा पाटन गुजरात की शिकायत पर थाना औद्योगिक सेक्टर 29 में अभियोग दर्ज पर पुलिस की टीमों ने आरोपियों की पहचान व धरपकड़ के लिए अपने सभी सोर्स एक्टिव कर दिए थे।

उन्होंने बताया कि सीआईए वन प्रभारी सब इंस्पेक्टर महिपाल सिंह की टीम ने शुक्रवार को मिले विशेष इनपुट पर दबिश देकर गुजरात के अहमदाबाद से उक्त वारदात के सरगना सहित दो आरोपियों को काबू करने में बड़ी कामयाबी हासिल की। गिरफ्तार दोनों आरोपियों ने प्रारंम्भिक पूछताछ में अपने तीन अन्य साथी आरोपियों के साथ मिलकर लूट की उक्त वारदात को अंजाम देने बारे स्वीकारा।

आरोपियों से पूछताछ में खुलासा हुआ गिरोह का सरगना गिरफ्तार आरोपी वनराज उर्फ विपुल है। 
आरोपी ने पूछताछ में पुलिस को बताया करीब 2 साल पहले उसने अपने गांव में करियाणा की दुकान की थी। दुकान में काफी घाटा हो गया था और उसके उपर करीब 13 लाख रूपये का कर्ज हो गया था। बाद में उसने दुकान बंद कर दी थी। कर्ज उतारने के लिए आरोपी ने अपने छोटे भाई लक्ष्मण, साथी आरोपी दलीप व दो अन्य साथी आरोपियों के साथ मिलकर लूट की उक्त वारदात को अंजाम दिया।

आरोपी वनराज उर्फ विपुल ने पूछताछ में बताया वारदात में शामिल उसके छोटे भाई लक्ष्मण ने करीब एक साल पहले पानीपत में एक कारोबारी के पास कलेक्शन ऐजेंट के रूप में दो महिने नौकरी की थी। वारदात को अंजाम देने से कुछ दिन पहले भाई लक्ष्मण ने उससे मिलकर बताया कि पानीपत में उसी कारोबारी के पास गुजरात के जिला पाटन के गांव पदराडा निवासी जयेश बला भाई अब भी कलेक्शन ऐजेंट की नौकरी करता है। जयेश 20 से 30 लाख रूपये लेकर आता जाता है। 

अपने उपर चढा कर्ज उतारने के लिए भाई व दोस्त के साथ मिलकर लूट की साजिश रची 


आरोपी वनवराज उर्फ विपुल ने वारदात में शामिल दोस्त जिला पाटना के अदगम गांव निवासी अपने साथी आरोपी सद्दाम खान को इस बारे बताकर उसको अपने साथ एक और लड़का लाने के लिए कहा। साथ ही अपने पास के गांव पदराडा निवासी साथी आरोपी दलीप को अपने पास बुला लिया। आरोपी सद्दाम चाकू से लैस होकर साथी आरोपी मुस्ताक खान को साथ लेकर उसके पास पहुंच गया।
जहा पर आरोपी वनवराज उर्फ विपुल ने अपने भाई लक्ष्मण व तीनों साथी आरोपियों के साथ मिलकर लूट की साजिश रची। 

आरोपी वारदात को अंजाम देने के लिए गुजरात से एक्युवी कार में सवार होकर पानीपत आए थे 

साजिश रचकर पांचों आरोपी वारदात को अंजाम देने के लिए गुजरात से एक एक्सयुवी कार में सवार होकर 23 जून को पानीपत आए। यहा आने के बाद कलेक्शन ऐजेंट जयेश के मकान की रेकी की। 25 जून को जयेश सिवाह बस स्टैंड से ई रिक्शा में बैठकर घर जा रहा था। आरोपियों ने नांगलखेड़ी के पास ई रिक्शा का रास्ता रोककर जयेश के साथ मारपीट की और चाकू के बल पर पैसों से भरा बैग छीनकर गाड़ी सहित मौके से फरार हो गए थे।

आरोपी सद्दाम व मुस्ताक लूटी गई 26 लाख रूपये की नगदी में से 6 लाख रूपये लेकर रोहतक पहुचने पर कार से उतर गए थे। तीनों आरोपियों ने गुजरात पहुंचकर बाकी बचे पैसे आपस में बाट लिए थे।

पुलिस अधीक्षक अजीत सिंह शेखावत ने बताया गहनता से पूछताछ व लूटी गई नगदी बरामद करने व वारदात में शामिल फरार इनके साथी आरोपियों को काबू करने के लिए पुलिस ने गिरफ्तार दोनों आरोपियों को शनिवार को माननीय न्यायालय में पेश किया जहा से उन्हें 6 दिन के पुलिस रिमांड पर हासिल किया।

यह है मामला

थाना औद्योगिक सेक्टर 29 में गुजरात के पाटन जिला के गांव भदरडा निवासी जयेश पुत्र वाला भाई हाल किरायेदार सेक्टर 12 पानीपत ने पुलिस को दी शिकायत में बताया था कि वह मुकेश व गोविंद के पास कलेक्शन ऐजेंट की नौकरी करता है। 25 जून को वह रोहतक व गोहाना से करीब 26 लाख रूपए कैश कलेक्शन कर पीठू बैग में डालकर बस में सवार होकर पानीपत सिवाह बस अड्डा पर पहुंचा था। यहा से वह सुबह करीब 11:15 बजे ई रिक्शा में बैठकर अपने कमरे पर जा रहा था। नांगल खेड़ी फ्लाई ओवर के पास पहुंचा तो पानीपत की तरफ से रॉन्ग साइड एक सफेद रंग की एक्सयुवी कार आई। एक्सयुवी कार से दो युवक उतरे और चाकू दिखाकर उसे थप्पड़ मारे। उससे चाकू की नोक पर पैसों से भरा बैग छीनकर कार सहित मौके से फरार हो गए। जयेश कि शिकायत पर थाना औद्योगिक सेक्टर 29 में अभियोग दर्ज कर कानूनी कार्रवाई अमल में लाई गई थी।

img
img